Blog Post को Google search के पहले पेज पर कैसे रैंक करें?

Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare: क्या आप अपने ब्लॉग पोस्ट को Google search के पहले पेज पर रैंक कराने के तरीके खोज रहे हैं, तो आप सही जगह पर आए हैं? इस लेख में, हम आपको बतलायेंगे कि आप अपने ब्लॉग पोस्ट को Google सर्च के पहले पृष्ठ पर कैसे रैंक करवा सकते हैं।

एक नए ब्लॉगर के साथ यह समस्या हमेशा रहती है कि उसके ब्लॉग की पोस्ट Google पर रैंक नहीं करती है। और वह हमेशा इंटरनेट पर सर्च करता रहता है कि ब्लॉग पोस्ट को गूगल पर कैसे रैंक किया जाए या ब्लॉग पोस्ट को गूगल सर्च के पहले पेज पर कैसे लाया जाए आदि।

हर ब्लॉगर या वेबसाइट के मालिक की इच्छा होती है कि उसका ब्लॉग गूगल के टॉप 10 सर्च रिजल्ट्स में टॉप पर आए और गूगल उसके ब्लॉग पर ऑर्गेनिक ट्रैफिक भेजता रहे और उसके ब्लॉग से होने वाली कमाई रोज बढ़ती रहे। अगर आप भी एक ब्लॉगर या वेबसाइट के मालिक हैं तो आपकी भी यही इच्छा होनी चाहिए।

इस लेख में हम आपको ऐसे कई तरीके बताएंगे जिनके इस्तेमाल से आप अपने ब्लॉग को गूगल सर्च में रैंक करवा सकते हैं और गूगल से ऑर्गेनिक ट्रैफिक पा सकते हैं।

Table of Contents

#1. ब्लॉग्गिंग में Google सर्च से ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक की आवश्यकता क्यों पड़ती है?

आज के समय में गूगल दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है, जिसका इस्तेमाल हर रोज लाखों लोग अपने सवालों के जवाब खोजने के लिए करते हैं। मेरा मानना ​​है कि आप भी दिन में कई बार गूगल सर्च का इस्तेमाल ज़रूर करते होंगे। गूगल सर्च में किसी भी क्वेरी को सर्च करने के लिए उसमें कुछ कीवर्ड्स लिखने पड़ते हैं और एंटर बटन पर क्लिक करने से कई सारे रिजल्ट सामने आते हैं। गूगल सर्च में दिखने वाले रिजल्ट किसी न किसी वेबसाइट से लिए जाते हैं क्योंकि गूगल का क्रॉलर इन वेबसाइट्स या ब्लॉग्स को हर दिन गूगल में अपने आप इंडेक्स करता रहता है। आज के समय में ऐसी कोई वेबसाइट या ब्लॉग मौजूद नहीं होगा जिसका डेटाबेस Google के पास उपलब्ध नहीं होगा।

आमतौर पर यह देखा गया है कि एक सामान्य खोजकर्ता गूगल सर्च के पहले दस परिणामों से ही संतुष्ट हो जाता है और शायद ही कभी उसको दूसरे पृष्ठ पर जाने की ज़रूरत पड़ती हैं। क्योकि Google ने पहले पृष्ठ पर दिखाई देने वाले परिणामों के लिए एक बुद्धिमान एल्गोरिथम विकसित किया है। यह एल्गोरिथम यूजर की सर्च इंट्रेस्ट के हिसाब से काम करता है।

अगर आप ब्लॉग्गिंग में सफल होना चाहते हैं तो आपके ब्लॉग पर मौजूद पोस्टो में से कम से कम 40% पोस्टो का गूगल सर्च के पहले टॉप 10 पेज पर रैंक होना चाहिए। यदि इतने सारे पोस्ट रैंक नहीं करते हैं, तो आप अपने ब्लॉग से अधिक पैसा नहीं कमा सकते, क्योंकि Google सर्च ही आपके ब्लॉग पर सबसे अधिक ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक भेजता है। इसके लिए आपको बस यह समझना होगा कि Google आपसे क्या चाहता है।

आइए अब आपको बताते हैं कि कैसे आप अपने ब्लॉग पोस्ट को गूगल सर्च के फर्स्ट पेज पर रैंक करवा सकते हैं। (Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare)

#2. ब्लॉग पोस्ट को गूगल में रैंक कैसे करें? (Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare)

ब्लॉगिंग करियर के शुरुआती दौर में लगभग हर ब्लॉगर इस बात को लेकर चिंतित रहता है कि उसके ब्लॉग पोस्ट सर्च इंजन में कैसे रैंक करेंगे। अगर आपके पास सही रणनीति है, तो आप भी अपने ब्लॉग पोस्ट को Google search में जल्दी रैंक करवा सकते हैं।

हम आपको ब्लॉग पोस्ट को सर्च इंजन में रैंक कराने के लिए अपनाई जाने वाली रणनीति बताने जा रहे हैं। अगर आप इनका सही तरीके से पालन करते हैं तो आपका लेख बहुत जल्द Google पर रैंकिंग करना शुरू कर देगा।

#2.1 हमेशा माइक्रो आला में काम करें।

Google खोज रैंकिंग का विश्लेषण करने के बाद, जितना हम समझते हैं, Google उन वेबसाइटों को अधिक प्राथमिकता देता है जो माइक्रो आला में सामग्री प्रदान करते हैं। यानी ऐसी वेबसाइट गूगल पर जल्दी रैंक करती है, जो किसी टॉपिक को गहराई से कवर करती है।

इसका मतलब यह है कि अगर आप अपने ब्लॉग की शुरुआत से ही micro niche पर काम करते हैं, तो आपको अपने ब्लॉग को रैंक करने के लिए ज्यादा मेहनत नहीं करनी पड़ेगी।

Micro Niche Blog पर काम करने का एक फायदा यह भी है कि Micro Niche Blog में बहुत कम प्रतिस्पर्धा होती है। इसका सीधा सा मतलब है कि एक माइक्रो आला ब्लॉग बनाकर, आप अपने ब्लॉग के लिए त्वरित सफलता और एक अच्छी Google रैंकिंग प्राप्त कर सकते हैं।

#2.2 उच्च गुणवत्ता वाले लेख लिखें (Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare)

आज के समय में दस में से नौ लोग अपनी क्वेरी का समाधान खोजने के लिए Google का उपयोग करते हैं। इसलिए Google ने अपने search algorithm को बहुत ही smart और बेहतरीन बनाया है। इस एल्गोरिदम के कारण, Google हमेशा खोज परिणामों में उच्च-गुणवत्ता और प्रासंगिक लेखों को प्राथमिकता देता है।

Google हमेशा यूजर एक्सपीरियंस पर बहुत ज्यादा ध्यान देता है, जिसके चलते गूगल हमेशा अपने सर्च एल्गोरिथम को इम्प्रूव करता रहता है।

यदि आप एक ब्लॉगर या वेबसाइट के मालिक हैं जो अपने ब्लॉग पोस्ट को Google खोज परिणामों में शीर्ष स्थान प्राप्त करना चाहते हैं, तो आपको अपने ब्लॉग पर उच्च गुणवत्ता वाले ब्लॉग लेख लिखने होंगे।

High-Quality article कैसे लिखें इसके लिए हमने कुछ तरीके अपनाए हैं, जो इस प्रकार हैं:

#2.3 यूजर के सर्च इंटेंट को समझें

अगर आप ऑनलाइन बिजनेस में सफल होना चाहते हैं तो आपको अपने दर्शकों के व्यवहार को समझना बहुत ज़रूरी है। आपके किसी पोस्ट से यूजर को क्या जानकारी चाहिए ये आपको पता होना चाहिए।

आप जिस कीवर्ड पर ध्यान केंद्रित करके अपना ब्लॉग पोस्ट लिख रहे हैं, उसके अनुसार आपको यह समझना होगा कि यूजर इस पोस्ट से कौन सी जानकारी पढ़ रहा है। आपको जानना होगा की क्या यूजर इस पोस्ट को पढ़कर पूरी तरह संतुष्ट है या नहीं।

जिस तरह किसी भी ब्लॉग पोस्ट के मुख्य कीवर्ड से ही Google समझ जाता है कि आप क्या सर्च कर रहे हैं, उसी तरह आपको यूजर के सर्च इंटेंट को भी समझना होगा।

#2.4 पोस्ट में ज्यादा से ज्यादा इमेज का उपयोग करें

एक लिखित आर्टिकल की तुलना में एक छवि अधिक प्रभावी होती है। आपने देखा होगा कि जिस लेख में सिर्फ टेक्स्ट होता है, उसमें यूजर की दिलचस्पी उन पोस्ट्स से कम होती है जिनमें इमेज का इस्तेमाल किया जाता है।

जब भी आप अपने ब्लॉग के लिए क्वालिटी आर्टिकल लिख रहे हों तो उस आर्टिकल में टेक्स्ट के साथ टॉपिक से संबंधित इमेज भी शामिल करनी चाहिए। इसके साथ ही आपको पोस्ट में SEO-फ्रेंडली इमेज का इस्तेमाल करना चाहिए।

#2.5 आर्टिकल में पैराग्राफ छोटा रखें

SEO फ्रेंडली आर्टिकल वह होता है जिसके पैराग्राफ छोटे होते हैं। इसलिए ब्लॉग पोस्ट लिखते समय आपको हमेशा सारी जानकारी छोटे छोटे पैराग्राफ में देनी चाहिए।

पैराग्राफ का साइज छोटा होने की वजह से यूजर कभी भी ब्लॉग पोस्ट पढ़ते हुए बोर नहीं होता और उसकी दिलचस्पी अंत तक बनी रहती है।

एक ब्लॉग पोस्ट में एक आदर्श पैराग्राफ हमेशा दो से तीन पंक्तियों या पाँच से छह वाक्यों का ही होना चाहिए।

#2.6 पोस्ट लिखने के लिए सरल भाषा का प्रयोग करें।

आपका ब्लॉग पोस्ट हमेशा एक सामान्य व्यक्ति पढ़ता है, कोई वैज्ञानिक नहीं। इसलिए जब भी आप अपने ब्लॉग के लिए कोई पोस्ट लिख रहे हों तो हमेशा ऐसी भाषा का प्रयोग करें जो एक सामान्य व्यक्ति आसानी से समझ सके।

Blogging की भाषा हमेशा आसान और आकर्षक होनी चाहिए, लेकिन इसका SEO फ्रेंडली होना भी बहुत जरूरी है।

कोई यूजर आपके ब्लॉग पर तभी आता है जब उसे पहली बार सही जानकारी मिली हो। यदि आपने अपने ब्लॉग पोस्ट में ऐसी जानकारी शामिल कर ली है जिसके बारे में आपको भी अधिक ज्ञान नहीं हैं तो अपने ब्लॉग ऑडियंस को क्या समझा पाओगे। जिसके बजह से यूजर फिर कभी आपके ब्लॉग पर नहीं आएगा क्योंकि आपने पहली बार में ही उसका विश्वास खो दिया है।

इसलिए आपको हमेशा उसी विषय पर लिखना चाहिए जिसका आपको पूरा ज्ञान हो।

#2.7 हमेशा सही जानकारी दें।

कारोबार चाहे ऑनलाइन हो या ऑफलाइन, दोनों जगहों पर ग्राहकों का विश्वास जीतना होता है। यदि आप एक बार अपने ऑनलाइन व्यवसाय में अपना विश्वास खो देते हैं, तो इसे पुनः प्राप्त करना बहुत कठिन हो जाता है।

इसलिए ब्लॉग पोस्ट लिखते समय केवल वही जानकारी दर्ज करें जिसके बारे में आप ठीक-ठीक जानते हों। इसका मतलब है कि आप उसी विषय पर ब्लॉग पोस्ट लिखते हैं जिसके बारे में आप जानते हैं।

ब्लॉग पोस्ट लिखते समय, ऐतिहासिक तथ्यों, आंकड़ों आदि का पूरा उपयोग करें। ये सभी चीजें आपके दर्शकों में विश्वास पैदा करती हैं।

#2.8 पोस्ट में पूरी जानकारी दें

एक ब्लॉग लेखक भी एक शिक्षक की तरह ही होता है जिसे कक्षा में नहीं बल्कि अपने ब्लॉग पर दर्शकों को समझाना होता है। इसलिए आपको हमेशा अपने ब्लॉग पोस्ट को पूरी जानकारी के साथ लिखना चाहिए ताकि लोग उस जानकारी का सही से उपयोग कर सकें। आज के समय में ऐसे लोग हैं जो प्रतिस्पर्धा की भावना को ध्यान में रखते हुए अपने ब्लॉग में सही और पूरी जानकारी नहीं देते हैं। ऐसी चीजें करने से आप अपने दर्शकों का विश्वास खो देते हैं।

कुछ लोग सब कुछ जानते हैं, अच्छी तरह जानते हैं, और आश्चर्यजनक रूप से जानते हैं, लेकिन बताते नहीं हैं। वे आधी जानकारी देंगे और आधे से ज्यादा छिपा देंगे। किन्तु आपके दर्शक भी बुद्धिमान हैं, उन्हें महसूस हो जाएगा कि आपसे पूरा समर्थन नहीं मिल रहा है और आप अपने ऑडियंस का विश्वास कभी जीत नहीं पाओगे।

इंटरनेट तक आसान पहुंच के कारण, दर्शक बहुत स्मार्ट और बुद्धिमान हो गए हैं। वे तुरंत समझ जाएंगे कि उन्हें उनके ब्लॉग में पूरी जानकारी नहीं दी गई है और वे फिर कभी आपके ब्लॉग पर भरोसा नहीं करेंगे.

इसलिए आप जिस भी आला (Niche) या क्षेत्र में काम करते हैं, अपने दर्शकों को पूरी और सटीक जानकारी प्रदान करें।

#2.9 एक अच्छा निष्कर्ष लिखें

किसी भी ब्लॉग का निष्कर्ष उस ब्लॉग पोस्ट का संक्षिप्त सारांश होता है। इसलिए यदि आप एक बढ़िया पोस्ट लिखना चाहते हैं तो आपको हमेशा उसके अंत में उसका निष्कर्ष लिखना चाहिए। आर्टिकल का निष्कर्ष पाठक को यह समझने में मदद करते हैं कि उसने लेख से क्या सीखा है।

साथ ही, निष्कर्ष अनुभाग में, पाठक को इस लेख को अपने सोशल मीडिया पर भी साझा करने के लिए प्रोत्साहित करें और उन्हें फिर से अपने ब्लॉग पर आने के लिए आमंत्रित करें।

#2.10 मुख्य पोस्ट के साथ संबंधित आर्टिकल ज़रूर लिखें।

Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare: हम कई सालों से ब्लॉगिंग कर रहे हैं और अपने ब्लॉग पर हर दिन कुछ न कुछ नया प्रयोग करते रहते हैं। इन प्रयोगों का एकमात्र उद्देश्य यह है कि उपयोगकर्ता हमारे ब्लॉग से अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त कर सके।

अगर आप Google पर अपने ब्लॉग की रैंकिंग बढ़ाना चाहते हैं तो आपको संबंधित ब्लॉग पोस्ट का लिंक भी अपने मुख्य ब्लॉग पोस्ट में शेयर करना होगा।

अब आप सोच रहे होंगे की इन related article को कैसे चुने। इसके लिए आप हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई ट्रिक का इस्तेमाल कर सकते हैं।

जब भी हम कोई नया आर्टिकल लिखते हैं तो उससे पहले हम डीप कीवर्ड रिसर्च करते हैं। यह गहन कीवर्ड रिसर्च ब्लॉग पोस्ट के लिए मुख्य कीवर्ड देता है। लेकिन इस मुख्य कीवर्ड के साथ-साथ कई अन्य समान कीवर्ड भी मालूम चलते हैं।

हम अपने ब्लॉग में मुख्य कीवर्ड से मिलते-जुलते कीवर्ड पर भी अलग से पोस्ट लिखते हैं। इन पोस्टो को लिखने का मुख्य उद्देश्य केवल अपने दर्शकों को पूरी और सही जानकारी प्रदान करना है। फिर इन सहायक आर्टिकलो को मुख्य कीवर्ड वाले पोस्ट के साथ आंतरिक रूप से जोड़ा जाता है।

जब Google अपने सर्च इंजन में मुख्य लेख को क्रॉल करता है, तो वह इन सहायक लेखों को भी क्रॉल करता है। क्योंकि Google अच्छी तरह से समझता है कि आपके ब्लॉग पोस्ट में अन्य लोगों के ब्लॉग पोस्ट की तुलना में अधिक जानकारी उपलब्ध है।

आइए इसे एक उदाहरण के माध्यम से समझते हैं। मान लीजिए आप अपने ब्लॉग में एक लेख लिखते हैं कि आप अपने YouTube से पैसे कैसे कमा सकते हैं। यहां आपका मुख्य ब्लॉग पोस्ट आपका YouTube कमाई वाला लेख होगा। इसके अलावा यूट्यूब क्या है? यूट्यूब चैनल पर सब्सक्राइबर कैसे बढ़ाएं? YouTube चैनल के लिए सबसे अच्छी आला (Niche) कौन सी है? यूट्यूब पर अकाउंट कैसे बनाये? आदि ये सभी आपके मुख्य पोस्ट के लिए सहायक लेख होंगे।

एक सहायक लेख लिखकर, Google खोज आपके मुख्य लेख को अधिक रिलेवेंट, ऑथॉरिटाटीवे और यूजर फ्रेंडली पाएगा और इस लेख को शीर्ष पर रैंक करना शुरू कर देगा।

#2.11 यूजर इंगेजमेंट

उपयोगकर्ता अनुभव सर्च इंजन रैंकिंग में एक प्रमुख भूमिका निभाता है। इसलिए गूगल SERP में उन ब्लॉग को प्राथमिकता देता है जिन ब्लॉग पर यूजर ज्यादा समय बिताता है।

ब्लॉग के यूजर एक्सपीरियंस को जानने के लिए गूगल कई मेथड का इस्तेमाल करता है, जो यूजर को एनालाइज करने के बाद गूगल को एक सिग्नल देता है कि यूजर को आपका ब्लॉग आर्टिकल पसंद आया या नहीं; उनमें से कुछ मुख्य निम्नलिखित हैं:

#2.11.1 उपयोगकर्ता द्वारा ब्लॉग पर बिताया गया समय

यदि आपने अपने ब्लॉग पोस्ट में सही और गहन जानकारी प्रदान की है, तो यूजर आपके ब्लॉग पोस्ट को पूरी तरह से पढ़े बिना नहीं छोड़ेगा। सर्च इंजन में रैंकिंग बढ़ाने के लिए सबसे जरूरी चीज है कि यूजर आपके ब्लॉग पर कितना समय बिता रहा है।

अगर यूजर द्वारा आपके ब्लॉग पर बिताया गया समय ज्यादा है तो इसका मतलब है कि आपका कंटेंट यूजर को पसंद आ रहा है, और कंटेंट हाई क्वालिटी का है।

अब, यदि कोई उपयोगकर्ता आपके ब्लॉग पर आया लेकिन कुछ समय बाद आपका ब्लॉग छोड़ दिया, तो इसका प्रभाव ब्लॉग की रैंकिंग पर अधिक पड़ता है। इससे आपके ब्लॉग का बाउंस रेट बढ़ जाता है और google SERP में आपके ब्लॉग की रैंकिंग कम हो जाती है।

#2.11.2 सोशल मीडिया सिग्नल

सोशल मीडिया शेयरिंग का भी ब्लॉग रैंकिंग पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है। अगर ज्यादा से ज्यादा लोग आपके ब्लॉग पोस्ट को अपने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर कर रहे हैं, तो समझ लें कि आपके ब्लॉग पर पैसे की बारिश होने वाली है। ब्लॉग की सर्च इंजन रैंकिंग में सोशल सिग्नल प्रमुख भूमिका निभाते हैं। Google सर्च इंजन में सोशल सिग्नल को बहुत महत्व देता है।

#2.11.3 पोस्ट पर कमेंट की अधिक संख्या

अगर आपके दर्शक आपके ब्लॉग पोस्ट पर अच्छा कमेंट कर रहे हैं, तो इसका मतलब है कि दर्शक आपके ब्लॉग पोस्ट में अपनी रुचि दिखा रहे हैं। ब्लॉग पोस्ट में दर्शकों द्वारा टिप्पणी करना भी एक अच्छे यूजर एक्सपीरियंस के अंतर्गत आता है।

#2.11.4 ब्लॉग का पेजव्यू बढ़ाएँ

ब्लॉग के पेजव्यू जितने ज्यादा होंगे, उस ब्लॉग की कमाई भी उतनी ही ज्यादा होगी। यानी पेजव्यू का असर सीधे ब्लॉग की कमाई पर पड़ता है।

अगर आप अपने ब्लॉग की सर्च रैंकिंग को बढ़ाना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने ब्लॉग की रैंकिंग को बढ़ाएं।

अब आप सोच रहे होंगे कि पेजव्यू कैसे बढ़ाएं। मान लीजिए कोई आपके ब्लॉग पोस्ट पर आया और उस लेख को पढ़ने के बाद उसने आपके ब्लॉग पर अन्य लेख भी पढ़े। इसका मतलब है कि उपयोगकर्ता का सेशन एक था, लेकिन पेजव्यू कई हो गए। किसी भी ब्लॉग के पेजव्यूज बढ़ने से उस ब्लॉग की सर्च इंजन में रैंकिंग और एडसेंस से कमाई दोनों बढ़ोतरी होती है।

अपने ब्लॉग के पेजव्यू को बढ़ाने के लिए आपको अपने ब्लॉग पोस्ट में ज्यादा इंटरनल लिंकिंग करनी होगी।

#2.12 प्रतियोगी ब्लॉग का विश्लेषण करे

किसी भी व्यवसाय को शुरू करने से पहले, अपने प्रतिस्पर्धियों के बारे में हमेशा जानना बहुत जरूरी है, खासकर ब्लॉगिंग के क्षेत्र में। अगर आप अपने ब्लॉग को गूगल सर्च में रैंक करना चाहते हैं तो आपको अपने प्रतिस्पर्धियों के ब्लॉग या वेबसाइट को पूरी तरह से अनलॉक करना होगा। आपको यह जानने की जरूरत है कि उसके ब्लॉग पोस्ट किन किन कीवर्ड पर सर्च इंजन में रैंक कर रहे हैं।

इसके साथ ही हर नए ब्लॉग पोस्ट को लिखने से पहले आपको इस बारे में गहन शोध करना होगा कि इस लेख को कौन टक्कर दे रहा है।

Google खोज में रैंकिंग प्रतियोगी के ब्लॉग पोस्ट का विश्लेषण करने के लिए, आपको कुछ विशिष्ट प्रश्नों के उत्तर खोजने होंगे जैसे:

  • वह लेख कितने शब्दों में लिखा गया है?
  • यह लेख किन खोजशब्दों पर रैंकिंग कर रहा है?
  • इस लेख में उपयोग की गई छवियों की कुल संख्या क्या है?
  • क्या इस लेख में वीडियो का भी इस्तेमाल किया गया है?
  • इस लेख को रैंक करने के लिए कितने बैकलिंक्स लिए गए हैं, और किस प्रकार और किस वेबसाइट से?

उपरोक्त प्रश्नों के साथ, आप आसानी से किसी भी प्रतिस्पर्धी ब्लॉग पोस्ट का विश्लेषण कर सकते हैं जो सर्च इंजन में रैंकिंग कर रहा है। इस विश्लेषण को ठीक से करने के बाद आप उस विषय पर और भी बेहतर तरीके से लेख लिख सकते हैं।

किसी भी URL का विश्लेषण करने के लिए आज कई निःशुल्क और सशुल्क टूल उपलब्ध हैं। इसके साथ ही आप कुछ दिनों के लिए पेड टूल के फ्री ट्रायल वर्जन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। आपको ट्रायल वर्शन में सशुल्क टूल की सभी सुविधाएं का उपयोग करने को मिलेगा।

#2.13 अपने ब्लॉग या वेबसाइट की पेजलोड स्पीड बढ़ाएँ

कोई भी वेबसाइट या ब्लॉग तभी फ़ास्ट माना जाता है जब वह कम से कम तीन सेकेंड में पूरी तरह से ओपन हो जाए। अगर आपकी वेबसाइट या ब्लॉग को पूरी तरह लोड होने में इससे ज्यादा समय लगता है तो यूजर अक्सर ऐसी वेबसाइट या ब्लॉग को नहीं खोला और दूसरी वेबसाइट पर चला जाता है। यूजर का यह व्यवहार आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की बाउंस दर को बढ़ाता है, जो आपकी वेबसाइट को सर्च इंजन के शीर्ष पर रैंक होने से रोकता है। अगर आपकी वेबसाइट का बाउंस रेट ज्यादा है तो इसे गूगल सर्च की नजर में एक बुरा संकेत माना जाता है और इसका सीधा असर आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की रैंकिंग पर पड़ता है।

आज के समय में अगर आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग को सर्च इंजन में रैंक करना चाहते हैं तो आपको उसकी लोडिंग स्पीड टाइम को कम करना होगा। इसके लिए आप कई फ्री और पेड प्लगइन्स जैसे WP Rockets आदि का इस्तेमाल कर सकते हैं।

#2.14 उच्च वेबसाइट स्वास्थ्य

आज के समय में वेबसाइट हेल्थ को भी सर्च इंजन रैंकिंग का हिस्सा माना जाता है। वेबसाइट स्वास्थ्य का मतलब है कि आपकी वेबसाइट का स्पैम स्कोर बहुत अधिक नहीं है। इसके अलावा, आपकी वेबसाइट पर कोई स्पैम प्लगिंग या थीम स्थापित नहीं है जिसे लंबे समय से अपडेट नहीं किया गया है। स्पैमी बैकलिंक्स बनाने से किसी भी वेबसाइट की सेहत खराब हो जाती है।

कभी-कभी बहुत से लोग अपने प्रतिद्वंदी की वेबसाइट के लिए स्पैम बैकलिंक्स बनाते हैं ताकि उसकी वेबसाइट की रैंकिंग ख़राब हो जाये। इसलिए आपको समय-समय पर अपने ब्लॉग या वेबसाइट के तकनीकी SEO पर भी ध्यान देना होगा।

#2.15 अपने ब्लॉग को मोबाइल रेस्पॉन्सिव बनाएं

आज के समय में ज्यादातर लोग ब्लॉग पढ़ने के लिए मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं। क्योंकि कंप्यूटर या लैपटॉप की तुलना में दुनिया भर से मोबाइल इंटरनेट का उपयोग लगातार बढ़ रहा है। इस चलन को देखते हुए Google अपने सर्च इंजन में लगातार मोबाइल रिस्पॉन्सिव ब्लॉग या वेबसाइट का प्रचार भी करता है। अगर आप सर्च इंजन में अपने ब्लॉग की रैंकिंग बढ़ाना चाहते हैं तो सबसे पहले यह सुनिश्चित कर लें कि आपका ब्लॉग या वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली है या नहीं। अगर नहीं तो पहले इसे मोबाइल रिस्पॉन्सिव बनाएं।

#2.16 आकर्षक ब्लॉग शीर्षक चुनें

ब्लॉग का शीर्षक उस ब्लॉग के बारे में संक्षेप में बताता है कि उस ब्लॉग में क्या जानकारी लिखी गई है। आपको अपने ब्लॉग का शीर्षक इस तरह से लिखना है कि वह आकर्षक और क्लिक करने योग्य हो। अक्सर शुरूआती ब्लॉगर ब्लॉग शीर्षक पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं और इसे बहुत सरल रखते हैं। एक ब्लॉग टाइटल आपके ब्लॉग की ऑर्गेनिक सर्च CTR और google SERP रैंकिंग को बढ़ाने में बहुत मदद करता है। ब्लॉग का टाइटल पढ़ने के बाद अगर ज्यादा लोग उस पर क्लिक करेंगे तो आपके ब्लॉग पर ज्यादा ट्रैफिक आएगा और सर्च इंजन में उसकी रैंकिंग भी बढ़ जाएगी।

#2.17 आकर्षक SEO फ्रेंडली मेटा डिस्क्रिप्शन लिखें

एक मेटा डिस्क्रिप्शन सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन का एक हिस्सा है। जब हम गूगल सर्च इंजन में कुछ सर्च करते हैं तो सर्च रिजल्ट में ब्लॉग टाइटल के नीचे जो शॉर्ट इनफॉर्मेशन लिखा होता है उसे मेटा डिस्क्रिप्शन कहते हैं। इसका मुख्य योगदान ब्लॉग की रैंकिंग और ट्रैफिक बढ़ाने में होता है। सर्च इंजन रैंकिंग में एक मेटा डिस्क्रिप्शन उतना ही महत्वपूर्ण है जितना कि एक ब्लॉग शीर्षक। अधिकांश समय, मेटा डिस्क्रिप्शन यह तय करता है कि उपयोगकर्ता आपके ब्लॉग पर क्लिक करेगा या नहीं। इसलिए अपने ब्लॉग पोस्ट का मेटा डिस्क्रिप्शन ध्यान से लिखें ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग आपके ब्लॉग पर आ सकें।

#2.18 लेखक बॉक्स बनाएं

लेखक बॉक्स ब्लॉग रीडर के लिए विश्वास का प्रतीक है। एक लेखक बॉक्स आपके ब्लॉग के Google E-A-T को बढ़ाता है, जिसका सीधा सा अर्थ है आपके ब्लॉग पर Google सर्च का विश्वास बढ़ाना। एक लेखक बॉक्स का उपयोग करने से आपके ब्लॉग के अधिकार और विश्वसनीयता में भी वृद्धि होती है।

#2.19 उच्च गुणवत्ता वाले बैकलिंक्स बनाएं

अगर आप अपने ब्लॉग को सर्च इंजन में जल्दी रैंक करना चाहते हैं तो आपको अपने ब्लॉग के लिए ज्यादा से ज्यादा बैकलिंक्स बनाने होंगे। लेकिन बैकलिंक्स बनाते समय इस बात का ध्यान रखें कि उनकी संख्या भले ही कम हो, लेकिन वे उच्च गुणवत्ता की हों। जैसा कि आप पहले से ही जानते हैं कि ब्लॉग के लिए बैकलिंक्स बनाना ऑफ-पेज एसईओ के अंतर्गत आता है।

आम बोलचाल में बैकलिंक का मतलब है कि कोई अन्य ब्लॉग आपके ब्लॉग को सत्यापित कर रहा है कि उस पर उपलब्ध जानकारी सही है। वर्तमान समय में Google भी quality backlinks को काफी महत्व देता है।

#2.20 ब्लॉग का सही SEO करें

अगर आप लम्बे समय तक अपने ब्लॉग से पैसे कमाने के बारे में सोच रहे हैं तो आपको अपने ब्लॉग का SEO बहुत अच्छे से करना होगा। जैसा कि आप जानते हैं कि SEO दो प्रकार के होते हैं, पहला Off-Page SEO और दूसरा On-Page SEO। SEO एक ऐसी प्रक्रिया है जिसकी मदद से आप आसानी से अपने ब्लॉग को Google या अन्य सर्च इंजन में सर्च रिजल्ट के पहले पेज पर रैंक कर सकते हैं।

इसके अलावा, सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन Google के क्रॉलर को आपकी प्रकाशित सामग्री को इंडेक्सिंग और रैंकिंग में आसानी से क्रॉल करने में मदद करता है।

अधिक जानकारी के लिए कृपया SEO पर हमारा यह लेख पढ़ें:

#2.21 पोस्ट को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर शेयर करें

जब आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट पर हॉट और ट्रेंडिंग टॉपिक पर हाई-क्वालिटी आर्टिकल लिखते हैं, तो कई लोग इस आर्टिकल को सोशल मीडिया पर अपने आप शेयर कर देते हैं। यदि यह संख्या बढ़ जाती है, तो Google खोज इसे एक अच्छे संकेत के रूप में देखता है और आपके ब्लॉग या वेबसाइट को खोज परिणामों में ऊपर दिखाना शुरू कर देता है।

ब्लॉग आर्टिकल को शेयर करते समय आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि आपको इसे अपने आला से जुड़े दर्शकों के बीच ही शेयर करना है क्योंकि यहां से आपके ब्लॉग पर ज्यादा ट्रैफिक आने की संभावना रहती है।

#2.22 Blog में स्कीमा का सही उपयोग करें

स्कीमा डेटा किसी भी ब्लॉग की संरचना के बारे में बताता है। अगर आपने अपने ब्लॉग के लिए सर्च इंजन फ्रेंडली स्कीमा का इस्तेमाल किया है तो आपके ब्लॉग को रैंक होने से कोई नहीं रोक सकता।

किसी भी ब्लॉग की रैंकिंग और उस पर जल्दी आने वाले ट्रैफिक को बढ़ाने में एक सही स्कीमा संरचना मुख्य कारक है।

Google search भी आपके ब्लॉग को schema structure की मदद से बेहतर तरीके से समझने में सक्षम है। अधिकांश नए ब्लॉगर अपने ब्लॉग के स्कीमा संरचना पर कभी ध्यान नहीं देते हैं, और उनका ब्लॉग लंबे समय तक रैंक नहीं कर पाता है।

#3. आप ब्लॉग में यूजर एंगेजमेंट कैसे बढ़ाते हैं?

Google जैसे बड़े सर्च इंजन में रैंकिंग में यूजर एंगेजमेंट प्रमुख भूमिका निभाता है। अगर आपके ब्लॉग का यूजर एंगेजमेंट अच्छा है तो हम आपसे वादा करते हैं कि आपके ब्लॉग को सर्च इंजन में टॉप पर रैंक होने से कोई नहीं रोक सकता (Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare)। आइए अब आपको बताते हैं कि आप अपने ब्लॉग की यूजर एंगेजमेंट कैसे बढ़ा सकते हैं।

#3.1 पोस्ट का इंट्रोडक्शन प्रभावी होना चाहिए।

यह किसी भी लेख की शुरुआत पर निर्भर करता है कि उपयोगकर्ता इस लेख को अंत तक पढ़ेगा या नहीं। इसलिए आपको हमेशा अपने ब्लॉग पोस्ट का परिचय प्रभावशाली और आकर्षक लिखना चाहिए। एक प्रभावशाली इंट्रोडक्शन के लिए आपको लेख की शुरुआत में समस्या का वर्णन करना चाहिए जिसको यूजर ढूंढ रहा है, और फिर उस समाधान की समाधान के बारे में व्याख्या करनी चाहिए।

#3.2 पोस्ट में अधिकतम हैडिंग और सबहेडिंग का प्रयोग करें।

छोटे पैराग्राफ में ब्लॉग लेख लिखने के साथ-साथ इस लेख को अधिकतम हैडिंग और सबहेडिंग में विभाजित किया जाना चाहिए। ऐसा करने से यूजर की रुचि ब्लॉग पोस्ट में बढ़ती है जिससे यूजर एक्सपीरियंस बढ़ता है।

#3.3 ब्लॉग के लिए डिसेंट फॉन्ट का इस्तेमाल करें।

ब्लॉग में उपयोग किए गए फ़ॉन्ट का उपयोगकर्ता अनुभव पर बहुत गहरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए जब भी आप अपने ब्लॉग के लिए कोई फॉन्ट चुनें, तो इस बात का ध्यान रखें। आपके द्वारा चुना गया फ़ॉन्ट अच्छा दिखने वाला और डेंटेड होना चाहिए। बहुत से लोग अपने ब्लॉग लेखों में बहुत ही अजीब फोंट का उपयोग करते हैं। इस प्रकार के फॉन्ट के कारण यूजर को आपके ब्लॉग आर्टिकल को पढ़ने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है जो यूजर के लिए एक बुरा अनुभव होता है। और कुछ लोग इन फोंट के कारण आपके ब्लॉग पर आना पसंद नहीं करते हैं। अगर आप अपने ब्लॉग के लिए एक अच्छा फॉन्ट नहीं चुन पा रहे हैं तो थीम में मौजूद डिफॉल्ट फॉन्ट का ही इस्तेमाल करें।

#3.4 ब्लॉग का डिजाइन आकर्षक बनाये

जैसा कि आप जानते हैं, जो देखते हैं वह बिकता है। तो सबसे पहले अपने ब्लॉग को सुंदर और आकर्षक बनाएं, लेकिन SEO का भी ध्यान रखें। बहुत से लोग अपने ब्लॉग को ठीक से डिज़ाइन नहीं करते हैं; उनके ब्लॉग पर कहीं भी अलग-अलग रंग के विजेट और मेन्यू बिखरे पड़े हैं, जिससे आपके ब्लॉग या वेबसाइट का उपयोगकर्ता पर गलत प्रभाव पड़ता है।

अगर आपके ब्लॉग का लुक किसी प्रोफेशनल दिखने वाली वेबसाइट से मिलता जुलता है, तो आपके ब्लॉग पर लोगों का भरोसा और भी मजबूत होता है। यही कॉन्फिडेंस फैक्टर आगे चलकर आपकी आमदनी का मुख्य कारण भी बनता है।

एक अच्छे ब्लॉग डिज़ाइन के लिए, आपको बस एक अच्छी वर्डप्रेस थीम चुनने की ज़रूरत है। इसके बाद इस वर्डप्रेस थीम में आपको हर तरह के कस्टमाइजेशन के विकल्प मिलेंगे, जिनकी मदद से आप अपने ब्लॉग को एक प्रोफेशनल लुक दे सकते हैं।

#3.5 ब्लॉग के लिए विशेष रंग चुनना

अगर आप अपने ब्लॉगिंग करियर में लंबे समय तक काम करना चाहते हैं और इससे पैसे भी कमाना चाहते हैं, तो आपको अपने ब्लॉग के लिए कुछ प्राथमिक रंग चुनना होगा। आपको एक ऐसा रंग चुनना होगा जिसे उपयोगकर्ता देखना चाहेगा और पसंद भी करेगा। मुख्य रूप से ब्लू और ऑरेंज कलर का कॉम्बिनेशन यूजर को काफी पसंद आ रहा है। आप भी इस संयोजन को अपने ब्लॉग के लिए चुन सकते हैं।

3.6 संबंधित या लोकप्रिय पोस्ट विजेट का उपयोग करें।

अपने ब्लॉग पर पेजव्यू बढ़ाने के लिए, आप ब्लॉग पोस्ट के साइडबार में लोकप्रिय या संबंधित लेखों की सूची का विजेट रख सकते हैं। जब भी कोई उपयोगकर्ता आपके ब्लॉग पोस्ट को पढ़ता है, तो वह अधिक जानकारी के लिए इन संबंधित पोस्ट को भी पढ़ सकता है।

#3.7 ब्लॉग पोस्ट में वीडियो का प्रयोग करें (Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare)

YouTube इतनी तेजी से बढ़ा है कि लगभग हर इंटरनेट उपयोगकर्ता दिन में कई बार YouTube का उपयोग करता है। अगर आप ब्लॉग पोस्ट लिख रहे हैं तो हो सके तो उसमें वीडियो का इस्तेमाल जरूर करें। ब्लॉग लेख में अधिक वीडियो जोड़ने का लाभ यह है कि यह आपके ब्लॉग के पढ़ने के समय को बढ़ाता है, जो Google रैंकिंग के लिए एक बहुत ही सकारात्मक संकेत प्रदान करता है। लेकिन ध्यान रहे कि आपको सिर्फ अपने ब्लॉग पोस्ट से रिलेटेड वीडियो ही ऐड करने हैं।

#3.8 हमेशा सोशल मीडिया शेयर बटन जोड़ें।

जब कोई उपयोगकर्ता आपके ब्लॉग पोस्ट को पसंद करता है, तो वह उस पोस्ट को अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ साझा करने के बारे में सोचता है। इसलिए जब भी आप ब्लॉग बनाएं तो उसमें सोशल शेयरिंग बटन का इस्तेमाल जरूर करें।

#4. निष्कर्ष – Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare?

ब्लॉग पोस्ट को Google पर कैसे रैंक करें इस लेख में हमने आपको उन सभी तरीकों के बारे में बताया है जो हम अपने ब्लॉग के लिए इस्तेमाल करते हैं। उम्मीद की जाती है कि आपको सभी प्रश्न के जवाब मिल गए होंगे जैसे Google पर ब्लॉग आर्टिकल को कैसे रैंक करें? (Blog Post Ko Google Me Rank kaise Kare) और ब्लॉग पोस्ट को रैंक कैसे करें? आदि का जवाब दिया जाएगा।

एक खास बात जो आपको हमेशा ध्यान रखनी है कि आपके ब्लॉग पर यूजर एंगेजमेंट ज्यादा से ज्यादा होना चाहिए और इसे ही ब्लॉग पर यूजर एक्सपीरियंस कहते हैं। यह तभी संभव है जब आप लगातार अपने ब्लॉग पर उच्च गुणवत्ता वाले लेख पोस्ट करते हैं।

एक उच्च-गुणवत्ता और संपूर्ण जानकारी वाला ब्लॉग पोस्ट हमेशा उपयोगकर्ताओं द्वारा पसंद किया जाता है।

हम उम्मीद करते हैं कि आपको ब्लॉग आर्टिकल्स को गूगल पर रैंक करने का तरीका पसंद आया होगा। यदि आप इस लेख में दी गई जानकारी से लाभान्वित हुए हैं, तो इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ साझा करें। और इसके अलावा अगर आपका कोई रिलेटेड सवाल है तो हमें कमेंट सेक्शन के जरिए जरूर पूछें।

धन्यवाद!

Also Read:

1 thought on “Blog Post को Google search के पहले पेज पर कैसे रैंक करें?”

Leave a Comment