Backlink क्या है – अपने ब्लॉग के लिए High Quality Backlinks कैसे बनाये?

यदि आप बैकलिंक्स के बारे में गहराई से जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आप सही जगह पर आए हैं। इस लेख में हम बताएंगे कि बैकलिंक क्या है? (Backlinks Kya Hai in hindi?) बैकलिंक्स कैसे बनाते हैं?(Backlink kese banate hai in Hindi) ब्लॉगिंग में बैकलिंक्स क्यों महत्वपूर्ण हैं? आदि।

अगर आप एक सफल ब्लॉग बनाना चाहते हैं, तो आपको अपने ब्लॉग पर हर दिन कुछ नया अपडेट करना होगा। हर दिन कुछ नया अपडेट करने से गूगल आपके काम को जरूर सपोर्ट करेगा और धीरे-धीरे आपका ब्लॉग सर्च इंजन में फेमस होने लगेंगे।

Blog को Successful बनाने में सबसे बड़ा हाथ Search Engine Optimization (SEO) का होता है। जिसकी मदद से आप अपने कौशल (Skil) को दुनिया भर के लोगों के साथ साझा कर सकते हैं। अगर आपके ब्लॉग का SEO खराब है तो आपके ब्लॉग पोस्ट कभी भी सर्च इंजन में रैंक नहीं कर पाएंगे।

अगर आप पहले से ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में काम कर रहे हैं तो आपको बैकलिंक्स के बारे में तो पता ही होगा। लेकिन अगर आप एक नया ब्लॉग शुरू कर रहे हैं तो आपके लिए बैकलिंक्स के बारे में जानना बहुत जरूरी है।

इस लेख के माध्यम से हम आपको बैकलिंक्स के बारे में सारी जानकारी देंगे। और बताएंगे कि कैसे बैकलिंक एक ब्लॉग को सर्च इंजन में हाई रैंकिंग दिलाने में मदद करता है।

चलो शुरू करो।

Table of Contents

1. बैकलिंक क्या है? (Backlinks Kya hai in Hindi?)

जब एक वेबसाइट किसी अन्य दूसरी वेबसाइट के पेज के साथ लिंक होती है तो उस हाइपरलिंक को बैकलिंक कहते हैं। बर्तमान समय में सर्च इंजन जैसे की Google, Bing आदि किसी एक स्पेशल पेज की रैंकिंग के लिए बैकलिंक्स को “वोट” की तरह मानते हैं। इसीलिए ज्यादा संख्या में बैकलिंक्स वाले पेजो को सर्च इंजन रैंकिंग में पहले स्थान मिलता है।

बैकलिंक को ब्लॉग्गिंग की दुनिया में “इनबाउंड लिंक”, या “इनकमिंग लिंक” या “वन-वे लिंक्स” के रूप में भी जाना जाता है।

चलिए अब हम आपको बैकलिंक कैसे काम करते है इसके बारे में समझते है

मान लीजिये कोई एक अच्छा ब्लॉग या वेबसाइट हैं जिस पर रोजाना बहुत सारे विसिटोर्स आर्टिकल पढ़ने या वीडियो देखने आते है। यदि इस वेबसाइट के किसी पेज या पोस्ट पर आपके ब्लॉग या वेबसाइट का कोई लिंक मौजूद है तो बहुत से विजिटर इस लिंक पर क्लीक करके आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर जरूर आएंगे।

इस तरीके से आपके ब्लॉग या वेबसाइट पर आने वाले विसिटोर्स की संख्या में हर दिन बढ़ोतरी होगी। यही बढत आपके ब्लॉग या वेबसाइट को सर्च इंजन मेंअच्छी रैंक पाने में मदद करेंगे।

2. बैकलिंक के प्रकार Types of Backlinks

ब्लॉग या वेबसाइट के लिए बैकलिंक दो प्रकार के होते हैं

  • डूफ़ॉलो बैकलिंक (dofollow backlink)
  • नोफ़ॉलो बैकलिंक (nofollow backlink).

चलिए इन दोनों प्रकार के बारे में विस्तार से जानते हैं।

2.1. डूफ़ॉलो बैकलिंक (DoFollow Backlink kya hai in Hindi)

किसी वेबसाइट से प्राप्त बैकलिंक से यदि आपकी वेबसाइट को उस वेबसाइट का लिंक जूस (Link Juice) प्राप्त होता है तो इसे डूफ़ॉलो बैकलिंक(Dofollow Backlink) कहते है।

डूफ़ॉलो बैकलिंक किसी भी ब्लॉग रैंकिंग में मुख्य भूमिका अदा करते है। इसके अलावा सर्च इंजन जैसे की गूगल, Bing आदि भी डूफ़ॉलो बैकलिंक को रैंकिंग में मुख्य फैक्टर मानते है। 

डूफ़ॉलो बैकलिंक प्राप्त करने के लिए आप नीचे दिए गए कोड का इस्तेमाल कर सकते है।

<a href=”yourwebsite.com”>Link Text</a>

2.2. नोफ़ॉलो बैकलिंक (NoFollow Backlink Kya Hai in hindi)

किसी भी वेबसाइट से मिलने वाले बैकलिंक से यदि आपकी वेबसाइट को लिंक जूस प्राप्त नहीं  होता है तो उस बैकलिंक को नोफ़ॉलो बैकलिंक (Nofollow backlink) कहा जाता है।

नोफ़ॉलो बैकलिंक (NoFollow backlink) सर्च इंजन रैंकिंग में कोई प्रभाब नहीं डालती है। वैसे ऐसा बिलकुल नहीं है की नोफ़ॉलो बैकलिंक आपके ब्लॉग के लिए फायदेमंद नहीं होती है। किन्तु नोफ़ॉलो बैकलिंक (Nofollow backlinks) की बजह से आपके ब्लॉग को लगातार ट्रैफिक मिलता रहता है। कोई भी विजिटर नोफ़ॉलो लिंक पर क्लिक करके आपके ब्लॉग पोस्ट पर आ सकता है।

नोफ़ॉलो बैकलिंक प्रपात करने के लिए नीचे दिए गए कोड का इस्तेमाल कर सकते है।

<a href=”yourwebsite.com” rel=”nofollow”>Link Text</a>

3. बैकलिंक से जुड़े कुछ मुख्य टर्म्स

ऊपर की जानकारी से आप समज ही गए होंगे की बैकलिंक क्या होते है (Backlinks Kya Hai in hindi) और ये कैसे काम करते है। अब हम आपको बैकलिंक से जुड़े हुए कुछ टर्म्स के बारे में बतलायेंगे जिनकी मदद से आप बैकलिंक के बारे में और अधिक जान पाएंगे।

तो चलिए बैकलिंक से जुड़े हुए कुछ मुख्य टर्म्स terms के बारे में: –

3.1. बैकलिंक्स लिंक जूस (Backlink Link Juice in Hindi)

जब किसी वेबसाइट या ब्लॉग का लिंक किसी अन्य वेबसाइट या ब्लॉग की पोस्ट में जुड़ा होता है, तो आपकी वेबसाइट को वहां से एक फॉलो लिंक मिलता है। यानी वह वेबसाइट या ब्लॉग आपकी वेबसाइट या ब्लॉग को सत्यापित कर रहा है। जसिकी बजह से उस वेबसाइट से आपकी वेबसाइट को एक रिफरेन्स जूस प्राप्त होता है। इसे ब्लॉगिंग की आम भाषा में लिंक जूस कहते हैं। यह लिंक जूस आपके ब्लॉग आर्टिकल को सर्च इंजन में रैंक करने में मदद करता है, जिससे आपके ब्लॉग या वेबसाइट की डोमेन अथॉरिटी भी बढ़ जाती है।

3.2. निम्न गुणवत्ता वाले बैकलिंक(Low quality backlink in Hindi)

किसी भी गलत, स्पैम या अवैध वेबसाइट से प्राप्त बैकलिंक्स को लो क्वालिटी बैकलिंक्स (Low quality backlinks) कहा जाता है। इस प्रकार के बैकलिंक से आपके ब्लॉग को कोई फायदा नहीं होता है, लेकिन इससे ब्लॉग को काफी नुकसान होता है। इसीलिए अपने ब्लॉग या वेबसाइट के लिए बैकलिंक बनाते समय आपको हमेशा सतर्क रहना चाहिए और ध्यान रखना चाहिए कि यह बैकलिंक निम्न गुणवत्ता का न हो।

ध्यान रखे, किसी भी स्पैम, अवैध या अश्लील वेबसाइट से प्राप्त बैकलिंक्स के परिणामस्वरूप आपकी वेबसाइट को खोज इंजन द्वारा दंडित किया जा सकता है।

अधिकांश ब्लॉगर इस प्रकार के बैकलिंक का उपयोग अपने प्रतिस्पर्धियों को बैकलिंक करने के लिए करते हैं। ताकि उनके ब्लॉग की रैंकिंग बढ़े और उनका प्रतियोगी पिछड़ जाए। लेकिन यह एक गलत प्रथा है जिसे ब्लॉगिंग में कभी भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

3.3. उच्च गुणवत्ता वाले बैकलिंक (High Quality backlink in Hindi)

ऐसी वेबसाइटों या ब्लॉग से प्राप्त बैकलिंक्स जिनका सर्च इंजन में बहुत महत्व है, हम उन्हें उच्च गुणवत्ता वाले बैकलिंक्स (High Quality Backlinks) कहते हैं।

इसे हम आसान भाषा में समझते हैं। मान लीजिए आपको नौकरी के लिए इंटरव्यू के लिए जाना है। और अगर आपको किसी अच्छी प्रतिष्ठा वाले व्यक्ति द्वारा रेफर किया गया है, तो आपके चयन की संभावना काफी बढ़ जाएगी। और हो सकता है कि आपका सिलेक्शन भी उस नौकरी के लिए हो जाए।

यही बात बैकलिंक की गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है कि उसे किस वेबसाइट ने रेफर किया है।

अपने ब्लॉग के लिए बैकलिंक्स बनाते समय आपको हमेशा इस बात का ध्यान रखना होगा कि आपको हमेशा अपने आला से संबंधित वेबसाइटों से बैकलिंक्स प्राप्त करने होंगे।

3.4. आंतरिक बैकलिंक (Internal backlink in hindi)

जब किसी ब्लॉग की पोस्ट को उसी ब्लॉग की दूसरी पोस्ट से लिंक किया जाता है तो उस लिंक को इंटरनल बैकलिंक कहते हैं। इंटरनल बैकलिंक की मदद से आपके ब्लॉग के एक पेज से दूसरे पेज पर विजिटर आता है। यह प्रक्रिया सर्च इंजन में आपके ब्लॉग के पेज व्यू को बढ़ाती है। जिससे आपके ब्लॉग की रैंकिंग सर्च इंजन में बढ़ जाती है।

किसी भी नए पोस्ट को सर्च इंजन में जल्दी रैंक करने के लिए यह तरीका बहुत उपयोगी है। अगर आपका कोई आर्टिकल सर्च इंजन में रैंक कर रहा है और आप किसी अन्य आर्टिकल को सर्च इंजन में जल्दी रैंक करना चाहते हैं। इसके लिए आप अपने नए आर्टिकल के हाइपरलिंक को रैंक किए जा रहे आर्टिकल में ऐड कर सकते हैं। ऐसा करने से विजिटर इन हाइपरलिंक्स पर क्लिक करके आपका नया आर्टिकल भी पढ़ेगा। और आपका यह नया article भी पुराने article की तरह search engine में rank करना शुरू कर देगा.

बैकलिंक से सम्बंधित सभी मुख्य टर्म्स को जानने के बाद अब हम आपको बैकलिंक के प्रकार के बारे में बताते हैं। और जानिये कि बैकलिंक्स कितने प्रकार के होते हैं।

4. ब्लॉग के लिए बैकलिंक्स कैसे बनाये (Backlinks Kya Hai in hindi)

हर नया ब्लॉगर इस बात को लेकर बहुत कन्फ्यूज रहता है कि अपने ब्लॉग के लिए क्वालिटी बैकलिंक्स कैसे बनाएं। एक ब्लॉग के लिए एक उच्च गुणवत्ता वाले बैकलिंक का एकमात्र उद्देश्य आपके ब्लॉग पर अधिक से अधिक विजिटर को आकर्षित करना है ताकि आपके ब्लॉग की रैंकिंग सर्च इंजन में बढे।

इसलिए अपने ब्लॉग के लिए अच्छी क्वालिटी का बैकलिंक प्राप्त करना बहुत जरूरी हो जाता है।

आप किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के लिए जितने चाहे उतने बैकलिंक्स प्राप्त कर सकते हैं। इसकी कोई सीमा नहीं है लेकिन आपके पास हमेशा High Quality Backlinks प्राप्त करने की कोशिश करनी चाहिए। अपने किसी भी ब्लॉग के लिए बैकलिंक बनाते समय इस बात का ध्यान रखें कि यह बैकलिंक स्पैम, अवैध या अश्लील वेबसाइट से तो नहीं है।

 अगर आपकी वेबसाइट को ऐसी वेबसाइट ऐसी किसी भी वेबसाइट से बैकलिंक्स मिलते हैं तो यह आपके ब्लॉग की सर्च इंजन रैंकिंग को गिरा सकती है।

आइए अब आपको बताते हैं कि अपने ब्लॉग के लिए क्वालिटी बैकलिंक्स कैसे बनाएं।

4.1. गुणवत्ता सामग्री लिखें (Write Quality Content)

यह आपके ब्लॉग के लिए बैकलिंक्स प्राप्त करने का सबसे अच्छा और आसान तरीका है। अगर आप अपने ब्लॉग पर अच्छी क्वालिटी का कंटेंट पूरी जानकारी के साथ लिखते हैं तो दूसरे ब्लॉगर खुद आपके कंटेंट को सपोर्ट करेंगे। और वो लोग आपके ब्लॉग को अपने ब्लॉग या वेबसाइट से ऑटोमेटिक बैकलिंक देंगे।

आगंतुकों को एक अच्छी गुणवत्ता वाली सामग्री भी पसंद आती है और वे इसे सोशल मीडिया पर साझा भी करते हैं।

अगर विजिटर आपके कंटेंट को पसंद करने लगे तो गूगल भी आपके ब्लॉग को सर्च इंजन रिजल्ट में अपने आप ऊपर उठा देता है। जिससे आपके ब्लॉग की रैंकिंग और बढ़ जाती है और आप ज्यादा पैसे कमाने लगते हैं।

4.2. गेस्ट ब्लॉगिंग करें (Do guest blogging)

वर्तमान समय में Guest Post की लोकप्रियता बहुत तेजी से बढ़ रही है। गेस्ट पोस्टिंग का सीधा सा मतलब है कि आप एक लोकप्रिय ब्लॉग के लिए एक अच्छी पोस्ट लिखते हैं और उस पोस्ट के माध्यम से अपने ब्लॉग के लिए बैकलिंक प्राप्त करते हैं।

इस बैकलिंक के लिए ब्लॉग का मालिक आपसे कुछ पैसे भी वसूल सकता है। अगर उस ब्लॉग के मालिक के साथ आपके अच्छे संबंध हैं तो यह काम भी फ्री में किया जा सकता है. गेस्ट पोस्ट अच्छी क्वालिटी का बैकलिंक पाने का एक अच्छा और सफल तरीका है।

4.3. अन्य ब्लॉगर्स के काम को कमेंट के माध्यम से सपोर्ट करें।

अपने ब्लॉग के लिए nofollow backlinks प्राप्त करने का यह सबसे आसान तरीका है। लेकिन आपको इस बात का ध्यान रखना होगा कि यह सिर्फ आपके niche के blog पर ही जुड़ा होना चाहिए ना कि दुसरे niche के blog post पर.

आज के समय में Google कुछ nofollow backlinks को भी ranking factor के रूप में मानता है।

5. ब्लॉग की बैकलिंक कैसे चेक करें?

बहुत से नए लोगों के मन में हमेशा यह सवाल होता है कि अपने ब्लॉग का बैकलिंक कैसे चेक करें। क्या कोई ऐसी वेबसाइट या टूल है जहां हम अपने ब्लॉग पर मौजूद सभी बैंकलिंक्स की जांच कर सकते हैं।

बता दें कि आज के समय में कई ऐसी वेबसाइट और टूल्स हैं जहां से आप अपने ब्लॉक का बैकलिंक चेक कर सकते हैं। इनमें से कुछ टूल्स पूरी तरह से फ्री हैं और इनमें से कुछ टूल्स का इस्तेमाल करने के लिए आपको कुछ भुगतान करना होगा।

आइए हम आपको कुछ ऐसे टूल्स के बारे में बताते हैं जहां आप अपनी वेबसाइट के सभी बैकलिंक्स देख सकते हैं। ।

5.1.  गूगल सर्च कंसोल (Google Search Console in Hindi)

Google की अन्य निःशुल्क सेवाओं की तरह, Google Search Console भी एक निःशुल्क प्रोडक्ट है। अगर आप एक ब्लॉगर हैं तो आप Google Search Console के बारे में तो जानते ही होंगे। Google Search Console में, हम अपनी वेबसाइट का साइटमैप सबमिट XML फॉर्मेट में सबमिट करते हैं ताकि आपकी वेबसाइट के पेज सर्च रिजल्ट में दिखाई दें।

गूगल सर्च कंसोल (Google Search Console), Google search में आने वाले सभी results को control करता है। जब Google का क्रॉलर आपकी वेबसाइट को क्रॉल करता है, तो आपकी वेबसाइट के URL Google सर्च रिजल्ट्स में दिखाई देने लगते हैं।

Google Search Console आपके ब्लॉग या वेबसाइट के बारे में बहुत सारी जानकारी देता है। इसमें आप पता लगा सकते हैं कि यह ट्रैफिक आपके ब्लॉग पर कितना ऑर्गेनिक ट्रैफिक आता है और किस पेज पर, किस कीवर्ड से और किस देश से। इसके अलावा आपको सारी कई चीजें के बारे में भी आप जान सकते है।

यहां आप अपने ब्लॉग के सभी बैकलिंक्स भी चेक कर सकते हैं। Google वेबमास्टर टूल्स के लेफ्ट साइड मेन्यू में लिंक (Link) का एक विकल्प दिखाएगा, उस पर क्लिक करके आप अपने ब्लॉग के सभी आंतरिक और बाहरी लिंक देख सकते हैं।

5.2.  Ahref वेबमास्टर टूल (Ahref Websmaster Tool in Hindi)

Ahref Websmaster Tool में आप अपनी सभी वेबसाइट या ब्लॉग का फ्री में ऑडिट कर सकते हैं। वेबसाइट या ब्लॉग के मालिक के लिए उनकी वेबसाइट या ब्लॉग का पूरी तरह से निःशुल्क ऑडिट करने के लिए Ahref एक निःशुल्क टूल है।

 यहां आप अपने ब्लॉग के सभी आंकड़ों के बारे में जान सकते हैं। यहां आप अपनी वेबसाइट के बैकलिंक्स, कीवर्ड्स, रैंकिंग आदि के बारे में फ्री में पता कर सकते हैं।

आप अपने ब्लॉग में आने वाली सभी प्रकार की त्रुटियों और चेतावनियों को भी चेक कर सकते हैं और उन्हें हल करके आप अपने ब्लॉग की रैंकिंग भी सुधार सकते हैं।

Ahref Webmaster Tools एक ब्लॉगर के लिए एक ऑल-इन-वन टूल है। अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के सभी बैकलिंक्स चेक करने के लिए आपको सबसे पहले Ahref की वेबसाइट पर जाना होगा और फ्री में अपना अकाउंट बनाना होगा।

Ahref पर अकाउंट बनाने के लिए यहां क्लिक करें।

इसके बाद आपको अपने Blog को Ahref में Add करना होगा। उसके बाद यह टूल आपकी वेबसाइट को पूरी तरह से क्रॉल कर देगा जिससे आपकी वेबसाइट या ब्लॉग की पूरी रिपोर्ट Ahref के डैशबोर्ड में दिखाई देगी। यहां आपको बैकलिंक्स का विकल्प दिखाई देगा, आपको उस पर क्लिक करना है। क्लिक करने के बाद आपके सामने आपकी वेबसाइट के सभी नए, पुराने और खोए हुए बैकलिंक्स की लिस्ट आ जाएगी।

यदि आपने अभी तक Ahref वेबमास्टर टूल का उपयोग नहीं किया है, तो आज ही अपने ब्लॉग के लिए इस अद्वितीय टूल का उपयोग अवश्य करें। यह आपके ब्लॉगिंग जीवन को बहुत आसान बना देगा।

6. Backlinks बनाने के फायदे?

क्या बैकलिंक ब्लॉग की सफलता में उत्प्रेरक का काम करता है जो आपके ब्लॉग को बहुत तेजी से सफल बनाने में आपकी मदद करता है।

उत्तर है, हाँ

यदि आप ब्लॉग्गिंग के क्षेत्र में सफल होना चाहते हैं तो आपको अपने ब्लॉग के लिए निश्चित रूप से बैकलिंक्स बनाने होंगे। वैसे तो बैकलिंक सर्च इंजन का ही एक पार्ट है जो ऑफ पेज SEO में आता है।

किसी भी ब्लॉग का बैकलिंक बनने के कई फायदे हैं। इसके कुछ फायदे इस प्रकार हैं:

सबसे पहले एक Quality Backlink आपके Blog के Off Page SEO को बढ़ाता है।

यह आपके ब्लॉग या वेबसाइट की डोमेन अथॉरिटी को इम्प्रूव करता है।

आपके ब्लॉग की सर्च इंजन रैंकिंग मुख्य रूप से बैकलिंक्स पर निर्भर करती है।

बैकलिंक्स आपके डोमेन को ब्रांड करता है।

जब आपके Blog के लिए High Quality Backlinks बन जाते हैं तो आपके Blog पर काफी समय तक visitors आते रहते हैं। जिससे आपके ब्लॉग पर ऑर्गेनिक ट्रैफिक बढ़ता है।

7. निष्कर्ष (Backlinks Kya Hai in Hindi)

ब्लॉग के लिए बैकलिंक कैसे बनाएं इस लेख में हमने आपको बैकलिंक्स से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी दी है। इसमें हमने बताया है कि बैकलिंक्स क्या होते हैं (Backlinks Kya Hai in hindi), बैकलिंक्स कितने प्रकार के होते हैं, बैकलिंक्स के फायदों आदि के बारे में विस्तार से चर्चा की गई है।

इसके अलावा हमने आपको बताया कि बैकलिंक्स सर्च इंजन रैंकिंग में एक भूमिका निभाते हैं।

वैसे बैकलिंक ऑफ-पेज SEO का ही एक हिस्सा है जो आपके ब्लॉग की सफलता के लिए बहुत जरूरी है।

अगर वर्तमान समय में आप अपने ऑनलाइन बिजनेस को बढ़ाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको अपने ब्लॉग या वेबसाइट की अथॉरिटी बढ़ाना होगा। इसके लिए आपको अभी से अपने ब्लॉग के लिए क्वालिटी बैकलिंक्स बनाना शुरू कर देना चाहिए।

आपको हमारा बैकलिंक (Backlinks Kya Hai in hindi) पर यह लेख कैसा लगा हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं। अगर आपके मन में बैकलिंक से सम्बंधित कोई सवाल है तो हमसे कनेक्ट सेक्शन में जरूर पूछें। हमें आपकी सहायता करना अच्छा लगेगा।

आपको धन्यवाद!

8.   FAQ (Backlinks Kya Hai in Hindi)

क्या सभी बैकलिंक्स एक सामान होती है ?

नहीं! सभी बैकलिंक एक जैसे नहीं होते है। बैकलिंक की क्वालिटी कई फैक्टर पर निर्भर करती है जैसे की बैकलिंक का टाइप, कहा से प्राप्त हुई है आदि

क्या हिंदी ब्लॉग के लिए इंग्लिश ब्लॉग से बैकलिंक्स प्राप्त कीजै जा सकता है ?

जी हाँ ! आप अपने हिंदी ब्लॉग के लिए किसी भी इंग्लिश ब्लॉग से बैकलिंक प्राप्त कर सकते हो।

हिंदी ब्लॉग के लिए बैकलिंक कैसे बनाये?

आप अपने हिंदी ब्लॉग के लिए भी आप इंग्लिश ब्लॉग की तरह ही बैकलिंक बनना सकते हो। हिंदी ब्लॉग के लिए बैकलिंक आप अपने ही आला (niche) वाले हिंदी ब्लॉगर से संपर्क कर सकते हो।

इन्हें भी पढ़ें:

2 thoughts on “Backlink क्या है – अपने ब्लॉग के लिए High Quality Backlinks कैसे बनाये?”

Leave a Comment